शादी के बाद सगी बहन का दूध पिया -Kavita Didi ki Chudai

ghar me bua ko akele paa ke choda
Spread the love

बड़ी बहन माँ के सामान होती है और मैंने दीदी में हमेसा माँ देखा था, वो मुझे करीब 10 साल बड़ी है, और ये कहानी करीब 3 साल पुरानी है, जब मुझपे ऐसी कामुकता चढ़ी और मैंने अपनी दीदी की चुदाई कर दी और अपनी सगी बहन का दूध पिया।

मैं incestsexystory.in पे अक्सर कहानिया पढता हु और यहाँ की कहानिया पढ़के बहुत बार लंड हिलाया है. यहाँ बहुत सारी बहन की चुदाई कहानिया पढ़ी तो मुझे लगा शायद ये इतना गलत भी नहीं जितना मैं हमेसा सोचता हु.

इसलिए मैं आज अपनी कहानिया बताने आया की कैसा पागलपन आया की मैंने अपने दीदी के बूब्स को निचोड़ निचोड़ के दूध पिया और दीदी ने खुद अपनी चूचिया मेरे मुँह में भर दी.

 

मेरा नाम शुभम है और मैँ 27 साल का हु, मेरी दीदी का नाम कविता है उनकी उम्र 33 साल है.  दीदी काफी गोरी है, उनकी हाइट थोड़ी कम है लेकिन वो बहुत ज्यादा सुन्दर है, वो किसी एक्ट्रेस से कम नहीं है, उनके बूब 34D है, हाइट कम है इसलिए चूचिया उनकी थोड़ा अलग से ही पता चलती है, लेकिन वो काफी सुन्दर है, वैसे पहले कभी मैंने उनके बारे में गलत नहीं सोचा था.

वो मेरे सामने ही होती थी पुरे समय, कभी शॉर्ट्स तो कभी बिना ब्रा के टॉप पहन के घूमती थी, लेकिन मैंने कभी उनके चूचियों पे नज़र नहीं डाली थी.

bahan ka doodh piya

शादी के बाद दीदी की ज़िंदगी अच्छी चली रही थी, उनका एक बेबी भी हो गया जिसका नाम अरुण है, दीदी मेरे घर पे आयी मैं देखते ही उनसे गले मिला और मुझे उनके बूब्स का एहसास हुआ अपने सीने में, लगा की शायद जीजू ने दीदी के बूब्स को चूस  चूस के काफी बड़ा कर  दिया।

इस बीच में गन्दी कहानिया बहुत पढ़ने लगा था और कई लोगो ने अपने सगी बहन की चुदाई की कहानिया लिखी थी जो पढ़के मुझे काफी मज़ा आता था.

एक दिन मैं अचानक दीदी के रूम में गया वो अरुण को दूध पीला रही थी, मैं अचानक गुसा तो मैंने दीदी के बूब्स को देख लिया दीदी ने छुपा लिया,

मुझे कहा क्या हुआ शुभ.मैंने बोलै दीदी नीचे पापा बुला रहे ह चलो.

मैं दीदी को गले लग जाया करता जिससे मुझे उनके बूब्स टच होते और मज़ा आता, दीदी को इसका कुछ एहसास नहीं था. दीदी जब किचन में होती तो मैं कसी न किसी बहाने से अंदर जाता और उनके गाड़ में लौड़ा टच करता।

ऐसे ही चल रहा था की एक दिन ऐसा हुआ की मैं बदल गया, भाई न रहके बहनचोद बन गया. मैं जब दीदी के रूम में घुसा तो दीदी सो रही थी और उनकी चूचिया अरुण के मुँह थी. और मेरी सगी बहन का दूध पि रहा था, मेरी आंखे चकरा गयी पहली बार मैंने बहन के नंगे बूब्स देखे थे. मेरे दिमाग में यही चल रहा की कैसे बहन का दूध पीयू, मैं कविता दीदी के निप्पल्स को चूस चूस के लाल देना चाहता था.

मैं ध्यान देने लगा की किस वक़्त दीदी दूध पिलाती है. मैं दीदी के रूम में गया वो सो रही थी और उनका बूब्स अरु के मुँह में था, मैंने कई बार आवाज़ दिया दीदी दीदी, लेकिन वो गहरे नींद में थी.

मैं उनके बागल में जाके लेट गया. और अरुण को साइड में करके बूब्स को मुँह में भर लिया और चूसनेलगा। दीदी नींद थी उन्हें लगा की अरुण उनकी चूचिया को चूस रहा है, मैंने पहली बार अपनी सगी बहन का दूध पिया। वाह क्या टेस्ट था मज़ा आ गया, मेरा मन नई हो रहा था की चूचियों को छोड़ु।

मेरा मन अब दीदी की चुदाई करने का होने लगा. आपको पता ही होगा की चूचिया ऐसी चीज है की एक बार टच करलो तो लौड़ा खड़ा हो जाता ह दूध पिने के बाद मेरा क्या हाल  आप समझ सकते हो.

लेकिन मैं डर रहा था कुकी दीदी मुझसे बहुत प्यार करती थी उनकी नज़र में मैं गिर और बात पापा को पता चलती तो वो मेरी गाड़ पे लाठिया बरसाते अलग से.

मैं अब अक्सर ऐसे ही मौके की तलाश करता और मौका मिलते ही सगी बहन का दूध पि लेता, लेकिन मेरा बहुत मन होता था अब बूब्स दबाने का और दीदी की चूत में ऊँगली करने का. अब दूध पीते वक़्त मुझसे बर्दास्त नहीं होता था और दीदी के गाड़ पे हाथ रख के हल्का सा सहलाता था.

Didi ko bus me choda

एक दिन घर की लाइट चली गयी थी तो हम सब छत पे लेते हुए थे, दीदी मेरे बगल में थी में थी मुझे लगा की आज मौका बनाऊंगा कैसे भी. जब आधी रात बीत गयी तो मैंने अपना हाथ हल्का सा दीदी के ऊपर रखा और धीरे धीरे उनके बूब्स को दबाने लगा,  मैं उनसे थोड़ा चिपक गया तो मेरा लंड दीदी की गाड़ में घुसने लगा. मैंने धीरे धीरे बूब्स पे अपना प्रेशर बढ़ा दिया और गाड़ में भी लंड टाइट होने लगा.

दीदी हल्का सा मुड़ी अब उनका चेहरा मेरी तरफ था, मैं घबरा के एक डैम शांत हो गया. दीदी का चेहरा सामने था अब मेरा मन दीदी को किश करने का होने लगा , मैंने थोड़ा सा उनके पास में गया और लिप्स को जीभ से टच किया।

मेरे अंदर थोड़ी रिस्क लेने की हिम्मत आयी मैंने सोचा अगर कही फस गया तो नींद में था कहके बच जाऊंगा। मैंने दीदी की ऊपर वाली टाँग के नीचे अपनी टांग डाल दी, अब कविता के होठ मेरे होठो के सामने थे और मेरा लंड उनकी चूत को टच कर रहा था.

मैंने अपनी जीभ उनके होठो से लगाके हलके से चाटने लगा और लंड को धीरे धीरे उनके सलवार के अंदर डालने लगा. दीदी ने इतनी  देर में मुझे चिपका लिया।

वो अभी भी नींद में में थी, अब मेरा लंड मेरी सगी बहन की चूत की दीवारों से टकरा रहा था. इतनी देर में दीदी ने मुझे किश में साथ देना सुरु कर दिया मुझे कुछ समझ नहीं आ पा  रहा था की आखिर ये हो क्या रहा है. मुझे तो मज़ा ही आ रहा था मैंने दीदी के होठो को चूसना स्टार्ट कर दिया और अपना टाइट लंड उनकी चूत में और अंदर डाल दिया।

दीदी ने अचानक आंख खोला और हसने लगी, मुझसे शर्म आ गयी मैंने कहा दीदी आपको ये सब पता था क्या जो मैं कर रहा था.दीदी ने कहा तुम्हारी बड़ी दीदी हु बच्चे तुम्हारी आंखे देखके ही समझ  में रहा था मुझे की तुम अब बड़े हो गए हो और तुम्हारी नियत कुछ ख़राब है.

तुम्हे क्या लगता है इतने दिन से तुम अपनी बहन का दूध पे रहे हो और मुझे पता भी नहीं ह, लेकिन मैं तुमसे बहुत प्यार करती हु अकेले भाई हो मेरे तुम्हारे  अरमान पुरे करना चाइये मुझे।

इतने कहके वो मुझे किश करने लगी, अब्ब मुझे असली मौका मिला मैं पलट के उनके ऊपर आ गया वो नीचे मैं ऊपर मेरा लौड़ा उनकी चूत में सलवार के ऊपर से और मैं उन्हें पागलो जैसे किश करने लगा, और एक हाथ से उनका सलवार का नाडा खोलने लगा.

कविता दीदी ने मेरा हाथ रोका और कहा की पागल लड़के दूध जितना पीना हो पिलो अपनी सगी बहन का लेकिन चूत जीजा के लिए ही है.

मैंने कहा ठीक है दीदी मैं आपसे वादा करता हु की आपको चोदुँगा नहीं, लेकिन मैंने आज तक किसी लड़की की चूत को टच न किया है न देखा है तो इतना तो आप करा सकती हो न मुझे।

Didi ko bus me choda

दीदी  थोड़ा न नुकुर करते हुए कहा की ठीक ह टच करलो लेकिन चुद वाउंगी नहीं, मैंने कहा ठीक है और मैं किश करने लगा साथ में एक हाथ सलवार के अंदर डाल  चूत को फील करने लगा.

मुझे दीदी के चूचियों से दूध की महक आने लगी, मई थोड़ा नीचे किया सर और उनके कुर्ते को ऊपर उठा के उनके निप्पल्स को मुँह में भर लिया। आज पहली बार मैं खुलके बहन का दूध पि पा रहा था क्युकी हमेसा एक डर था,

मैंने दीदी से कहा दीदी आज आप खुदसे अपनी चूचिया अपने भाई के मुंह में डालो। दीदी बोली शुभ तू आज पागल हो गया ह क्या

मैंने कहा दीदी आज मेरी ज़िंदगी का सबसे बड़ा दिन आज आज मैंने अपनी प्यारी दीदी क साथ वो सब कर रहा हु जो सपने देखे, दीदी : अरे मेरा पागल बच्चा अपनी सगी दीदी को सपने में देखके क्या मिलता था तुझे।

दीदी प्लीज बुरा न मन्ना लेकिन मैंने सपने में आपको बहुत चोदा है, आपकी गाड़ में भी लंड डाला है, आप बहुत चिल्ला रही थी जब मैंने आपकी गांड में लंड डाला था.

दीदी : शुभ तुम अपनी सगी दीदी के बारे में ऐसा सोचते हो. इतने कहके दीदी ने मेरा ऊपर आ गयी और मेरे मुँह में चूचिया भर दी और बोली ले कुत्ते चूस ले आज सारा दूध अपनी दीदी का. चूस मेरा निप्पल मादरचोद। दीदी मेरे ऊपर थी तो उनका चूत मेरे लंड पे रगड़ खा रही थी.

दीदी को कुछ हो रहा था वो मेरे लौड़े पे अपनी चूत रगड़ने लगी और बूब्स को अपने दबा ले मेरे चेहरे पे दूध गिरा दिया। दीदी ने मेरा टाइट लौड़ा सीधा किया और उसी को सलवार के ऊपर से ही अंदर घुसेड़ने लगी.

मैं समझ गया की कविता दीदी अब मूड में है और आज सगी बहन की चुदाई करने का मौका मिलके ही रेहगा मुझे। मैंने दीदी को अब लेटाया और उनका सलवार उतरने लगा. दीदी बोली की बेबी तुमसे बात हुई ह न की तुम चोदोगे नहीं मुझे।

मैं पागल हो रहा था मैंने कहा की आज तुझे मैं अपनी रंडी बनाऊंगा मादरचोद। आज से तू मेरी रंडी है साली जब मन होगा चोदुँगा तुझे, बोलो दीदी चुदोगी न??

दीदी: ठीक है भाई जब मन होगा बोलना आ जाउंगी रूम में अपनी चूत लेके। जितना मन हो उतना दूध पीना। बहन  का दूध बहुत पसंद है न तुम्हे??

दीदी तुम्हारा तो सब पसंद है मुझे, इतना कहके मैंने कविता दीदी की सलवार नीचे की और चूत सूंघने लगा, कितनी मंदमस्त थी वो सुगंध, मैंने हलकी जीभ लगायी चूत पे.

दीदी: शुभ ये क्या कर रहे हो, ये  न करो मैं आउट ऑफ़ कण्ट्रोल हो जाउंगी। इतने कहके दीदी ने मेरा सर अपनी चूत  में और घुसेड़ लिया।

मैंने कविता दीदी की टाँगे फैला दी दोनों तरफ और बीच में अपना मुंह डालके कुत्ते की तरह चाटने लगा.

दीदी: आह ओह आह, चाट सेल और चाट कुत्ते। तेज़ से चाट सारी मलाई खले मेरी चूत का मेरे प्यारे छोटे भाई. आज अपनी सगी बड़ी बहन का चूत चाट ले.

और जोर से मेरे सर को चूत  में घुसेड़ लिया।

अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मैंने अपना लौड़ा बहार निकला  दीदी के मुंह में डाल दिया। चूस मेरा लौड़ा साली। सारा पानी मेरे लौड़े का बून्द बून्द पि जा साली रंडी बहन.

मैंने कविता दीदी के मुंह की चुदाई सुरु कर दी, मैंने कविता दीदी को उल्टा लेटा के उनके मुंह को चोदना सुरु हो गया. मैं झड़ने वाला था सारा वीर्य दीदी के मुँह में निकल दिया।

अब मेरा लौड़ा ठंडा हो गया था और बैठ गया दीदी ने कहा  साले अपनी बहन को ऐसे चोदेगा क्या।

दीदी ने मेरे मुंह में फिर से चूचिया भर दी और दबा दबा के दूध पिलाने लगी, बहन का दूध पीते ही मेरे अंदर ताक़त आ गयी. मेरा लौड़ा वापस से खड़ा हो गया.

मैंने दीदी की टांगे खोली और लौड़ा झटके से अंदर डाल दिया। दीदी चिल्ला दी, अरे मादरचोद माना की बहुत चुदी हु लेकिन तेरी सगी बड़ी बहन हु थोड़ा तो रहम खा कुत्ते।

मुझे कुछ सुनाई नहीं दे रहा था, मैं कविता दीदी की चुदाई में लगा हुआ था. मैंने पहले बार कोई चूत में लंड डाला था इसलिए कई बार झड़ा, लेकिन उस रात हमने तीन बार चुदाई की.

उस दिन के बाद से मैं  दम खुश रहने लगा मैं और दीदी बहुत चुदाई करते थे, जब मन होता था दीदी के बूब्स को बहार निकल के बहन का दूध पि लेता था.

दीदी को मैंने किचन में चोदा, वाशरूम में चोदा, सोफे पे चोदा। कोई ऐसी जगह नहीं बची जहा चोदा नहीं।

तो दोस्तों इस तरह मेरी ज़िंदगी मस्त चल रही थी, वैसे इधर काफी वक़्त से चुदाई का मौका नहीं मिला है न बहन का दूध पि पाया हु.

Company ke HR ki chudai

आप भी अपनी कहानी icbtblog@gmail.com पे भेज सकते है और पैसे भी कमा सकते है. अगर आपकी कहानी को चुना जाता है और ब्लॉग में पोस्ट किया जाता है तो आपको 500 का इनाम मिलेगा।

 

दोस्तों क्या अपने भी कभी अपनी बहन की चूचियों को घूरा है????


Spread the love

3 thoughts on “शादी के बाद सगी बहन का दूध पिया -Kavita Didi ki Chudai”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *