बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद – Antra ke ankho me anshu nahi dekh sakta

train me behan ki chudai
Spread the love

अंतरा काफी दिन से बहुत परेशान थी , अकेले में रहती थी बिना किसी से बात किये।  उसने राजीव को सच्चा प्यार किया था और 5 साल से उसके लिए सब किया।  राजीव ने जब चाहा उसके शरीर से खेला जैसे चाहा वैसे यूज़ किया और बाद में एक दूसरे लड़की की वजह से उसे छोड़ दिया।

मुझे अंतरा का दर्द देखा नहीं जा रहा था , मैं उसके कमरे में गया और उसे जबरदस्ती गले से लगा लिया।  काफी दिन बाद वो मेरे कंधे पे सर रखके मन भर के रोई। मैंने उसे रोने से नहीं रोका , मैं चाहता था की अंतरा आज जितना रोना है रोये और उसका मन हल्का हो।

Sagi kuwari Bua ki chudai

कुछ दर्द ऐसे होते जिनके लिए आशू बहाना बहुत जरूरी हो जाता है वर्ण वो हमेसा नासूर बनके  दिल में बस जाते है।

(अभी मैं जैसे अपनी कहानी में आगे बढूंगा तो मै बताऊंगा की कैसे मैंने अपनी बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद की।  ये सेक्स कोई काम वासना के लिए नहीं किया गया था बल्क़ि मैंने बस अपनी बहन को उसके दर्द से बहार निकलने में मदद कर रहा था।

राजीव जिससे मेरी बहन जी जान से प्यार करती थी वो उसके साथ एक कॉलेज में प्रोफेसर था। अच्छा था हैंडसम था और अच्छी जॉब भी करता था , लगभग तय था की दोनों शादी भी करेंगे।

लेकिन कहा जाता है न की लड़को की नियत का कभी भरोसा नहीं रहता , राजीव ने अर्रेंज मैरिज कर ली क्युकी उसे एक बहुत अमीर घर  की लड़की का रिस्ता आया।  उसने प्यार और पैसे में पैसे को चुना।

अंतरा मेरी सगी जुड़वाँ बहन है और हम दोनों हमउम्र है , अंतरा बहुत सुन्दर है गोरी है लम्बी है , उसका शरीर तो मुझे नहीं बताना चाइये था लेकिन अब कहानी लिख रहा हु तो बता देता हु की वो 32D 28 34 है।

उसके स्तन इतने बड़े तो नहीं है दूर से उसके शरीर में बस बूब्स ही दिखे लेकिन फिर इतने है की मेरे एक हाथ में नहीं आये थे।)

Train me chhoti behan ko choda

रोती हुई बहन को देखके मेरी आँखों से भी आँशु आ गए , मैंने उसके आँशु पूछते हुए उसके गालो पे किश किया और बोलै की तुम मेरी गुड़िया हो आज तक कभी तुम्हारी आँखों में पानी नहीं आने दिया और तुम एक बहरी लड़के की वजह से इतना रो रही हो, तुम्हे पता है माँ पापा का क्या हाल हो रखा है।

वो फिर से रोती हुए मेरे गले लग गयी और बोली की भैया मैंने उसे इतना प्यार दिया तो उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया नहीं भूल सकती मै उसे।

मैंने तेज़ से उसे अपने सीने से लगा लिया और बोलै की बच्चा हम सब है न तुम्हारे साथ किसी एक के जाने से ज़िंदगी नहीं रुक जाती।  मै उसकी पीठ सहला के धीरज दे रहा था , उसकी चूचिया मेरे सीने पे महसूस हो रही थी , मैंने उसके गाल पे भाई वाला किश करते हुए कहा की चुप हो जाओ हम नयी लाइफ की सुरुवात करेंगे।

वो खिड़की से बहार की तरफ देखते हुए बोली की भैया अब मै पहले जैसी नहीं हो पाउंगी कुछ अधूरापन हमेसा रहेगा।

मैं उसे पीछे हग करते हुए समझाया की सरे बंधन कुछ वक़्त के होते है और जब इससे अच्छा कोई आएगा जो तुम्हे समझेगा तो तुम इसे भूल जाओगी ,

मैंने उसे पीछे से पकड़ा हुआ था तो मेरा लंड उसके गाड़ में घुस रहा था पीछे से लेकिन वो इतना दुखी थी की उसे तो कुछ एहसास ही नई हो रहा था।

उसके आँशु रुक नहीं रहे थे।  मैंने कहा की तुम सो जाओ अभी और कुछ न सोचो।

अंतरा – भैया आप मेरे पास रुको।  अकेलापन मुझसे डसता है। और फिर से रोने लगी।

मैंने कहा की बच्चा मै हुआ न साथ में तुम आराम करो। वो मेरे गोद में सर रखके सोने लग गयी।

मैं उस रात काफी दुखी था और बहन के चेहरे की तरफ देख रहा था।  अंतरा बहुत सुन्दर लग रही थी।  मैं उसके सर पे हाथ फेर रहा था।

अंतरा का सर मेरे लौड़े पे रखा हुआ था जिसकी वजह से मेरा लौड़ा टाइट हो गया था , अंतरा को भी वो चुभने लगा था।

अंतरा ने करवट ली तो उसके गाल अब मेरे लौड़े पे थे।  अब मेरे अंदर अजीब सा कुछ हो रहा था मन हो रहा था की अंतरा के मुँह में अपना लंड डाल दू और बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद करदु।

train me chudai

लेकिन दूसरी तरफ मेरे अंदर एक भाई का दिल था जो बहन की मजबूरी का फायदा उठाने के ख्याल से ही शर्म में डूब जा रहा था।

मैंने हलके हलके उसके गालो पे अपने लंड को रगड़ना सुरु कर दिया और उसके सर को चम्पी देने लगा।

अंतरा काफी दिनों बाद गहरी नींद में सोई थी , मुझे खुशी हुई ये देखके की मेरी बहन आज चैन से सो रही है।  अंतरा ने शर्ट और शॉर्ट्स पहना हुआ था तो उसके क्लीवेज मुझे साफ़ दिख रहे थे।

मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसका एक बटन खोल दिया और उसके गले को सहलाने लगा , वो उलटी हो गयी और बोली भैया थोड़ा सर में चम्पी दे दो दर्द हो रहा ह पता नहीं क्यों।

वो राजीव के साथ काफी टाइम से रिश्ते में थी तो रंजीव ने अंतरा की चुदाई की थी काफी बार जिसकी वजह से मेरी बहन की गाड़ भी काफी फूली फूली से रहती थी। मुझे लग रहा था शायद मेरी बहन को अब मेरी जरूरत हो और बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद करने का मुझे मौका मिल जाये।

मै उसको चम्पी देने लगा जिससे वो और गहरी नींद में सो गयी , मैं भी उसके बगल में लेट गया।  और धीरे से अपने पैरो को उसके ऊपर रख दिया , मैं उसकी जांघो में अपना लंड घुसा रहा था और इतने में भी मुझे बहुत सुख मिल रहा था।

मै दूसरे हाथ से उसकी गाड़ को भी सहला रहा था , वो हल्का सा जगी और बोली की भैया सोने दो।  मैंने कहा की मेरी प्यारी बहन इतने दिन से दुखी है तो मैंने सोचा तुम्हारी बॉडी को थोड़ा दबा के मसाज दे दू।

वो बोली की थी है भैया मेरे हाथ को दबा दो।  मैं उसके हाथ को दबाने लगा और उसके पीठ के ऊपर लेट गया , उसने कहा की भैया आप भारी  हो और ऐसे कौन हाथ दबाता है।

मैंने कहा की इससे तुम्हे थोड़ा रिलैक्स मिलेगा और मैं उसके ऊपर होके हाथ दबाने लगा। मैं अपना लंड उसके गाड़ में रगड़ रहा था , वो अभी कुछ नहीं कह रही थी क्युकी वो नींद में थी और काफी थकी भी।

मुझे अपना लंड उसके गाड़ में शॉर्ट्स के ऊपर से डालने में बहुत मज़ा आ रहा था , मैंने हाथ हलके से उसके बूब्स पे ले गया और ऊपर से ही दबाने लगा।

अंतरा ने कहा की भैया अब बस आप रहने दो अपने कमरे में जाओ।  मैंने कहा की मेरी बहन इतनी परेशान है और मै नहीं जाऊंगा ऐसे , वो समझ की मैं अपने सगी बहन की ब्रेकअप के बाद चुदाई करना चाहता हु।

अंतरा ठीक है दे दो मुझे मसाज , मैंने उसके बूब्स को दबाना सुरु कर दिया और गाड़ पे लौड़ा रगड़ने लगा। मैंने उसका शॉर्ट्स नीचे कर दिया और पैंटी भी उतार दिया अब बहन की नंगी गाड़ मेरे सामने थी

behan ki gaad me land dala

मै उसकी गाड़ में अपना लौड़ा सेट करने लगा।  अंतरा अब सीढ़ी हो गयी , उसकी नंगी चूत और चूचिया मेरे सामने थी।

मै पागल कुत्ते की तरह उसकी चूत पे कूद पड़ा और उसे अपने मुँह में भरके चाटने लगा।  अंतरा कुछ कह नहीं रही थी बस रोये जा रही थी

जैसे उसे कोई आनंद नहीं आ रहा था , मैंने बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद इसलिए बस कर रहा था ताकि अंतरा का मन थोड़ा अलग हो और राजीव के दिए हुए दर्द से बहार आए जाये।

मैंने अंतरा की दोनों टांगों को फैला दिया और उसके चूत को चाटते हुए बोला की मेरी प्यारी बहन को दुखी होने की कोई जरूरत नहीं,  तुम्हे वो सब दूंगा जो राजीव ने नहीं दिया।

मैंने अब उसकी चूचियों को मुँह में भर लिया और लंड को चूत में डालके छोड़ दिया।  मैंने उसकी निप्पल्स को चाट रहा था , मेरी बहन के निप्पल्स काफी बड़े थे।

काफी देर उसके निप्पल्स को चूसने के बाद मैंने उसकी चूत में लंड को घूमने लगा।

अंतरा अब थोड़ा नार्मल कंडीशन में थी, शायद लंड चूत में जाने से उसको थोड़ा अच्छा फील हुआ था। बहन की चूत काफी बड़ी थी उसे देखके लग रहा था की राजीव ने मेरी बहन को जमके चोदा है इतने साल।

उसकी चूत में मेरा लंड काफी आसानी से जा रहा था और मै सगी बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद करने में कामयाब हो गया था।

लेकिन मेरे बहन की सबसे खास चीज थी उसकी गाड़ जो काफी चौड़ी थी , मैंने अंतरा से बोला की बाबू थोड़ा पलटो

उसने कहा नहीं भैया पीछे नहीं दर्द होता है , मैंने कहा की आज मुझे राजीव की जगह दे दो।

अब उसने एक शब्द भी नहीं कहा और उल्टा होक टांगे खोल दिया।

Jyoti sharma ki chudai

मैंने जैसे ही अपनी बहन अंतरा की गाड़ में लंड डाला वो दर्द से मचल गयी। लेकिन कुछ नहीं कहा।  मैंने स्पीड बढ़ाते हुए उसके गाड़ की चुदाई की।

उस रात मैंने अपनी बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद करके उसको सहारा दिया।

मैंने अंतरा से कहा की तुम्हे अब मैं लाइफ में कभी रोते हुए नहीं देखना चाहता।  अगर कभी मैंने तुम्हे रोते हुए देखा तो तुम्हे चोद दूंगा।  उसने कहा नहीं भैया।  आप मेरे भाई हो और ऐसी चीजे अच्छी नहीं है।

लेकिन अंतरा राजीव को भूल नहीं pa रही थी, लेकिन मैं उसे जब भी रोते हुए देखता उसकी चुदाई कर देता , एक दिन वो किचन में रो रही थी। मैं पीछे से गया और उसकी चूचिया दबाने लगा और उसे गोद में उठके कमरे में ले गया और जबरदस्त चुदाई की।

Company ke HR ki chudai

दोस्तों क्या मैंने बहन की चुदाई उसके ब्रेकअप के बाद करके कुछ गलत किया??


Spread the love

1 thought on “बहन की चुदाई ब्रेकअप के बाद – Antra ke ankho me anshu nahi dekh sakta”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *