Chhoti behan astha ki chudai blackmail karke

Sagi bua ki choot ko chata
Spread the love

Chhoti behan astha ki chudai blackmail karke ki लेकिन ये पाप मैं कभी करना नहीं चाहता था, कौन अपनी सगी छोटी बहिन को चोद के नर्क जाना चाहेगा।

लेकिन ये सब उस दिन से सुरु हुआ जब मैंने अपने बहन की नंगी फोटोज उसके मोबाइल पे देखि। मुझे बहुत गुस्सा आया अपने बहन पे और साथ में मेरा लंड बहुत टाइट खड़ा हो गया.

Remote ke khel me Behan ko Choda

उस दिन के बाद से मुझे अपनी बहन पे इतनी ज्यादा गुस्सा आयी की मेरा मन हुआ की इसे बहुत जवानी चढ़ रही है इसे कुतिया की तरह चोद के इसकी सारी जवानी निकाल दूंगा। अब जब ये चुदते हुए चिल्लायेगी तभी मेरा गुस्सा कम होगा.

पूरी कहानी पे आउ उससे पहले अपना एक परिचय दे दू. मेरा नाम अविनाश है और हम २ भाई एक बहन है, मैं दूसरे नंबर पे आता हु. मेरी बहन सबसे छोटी है और उसका नाम आस्था है.

आस्था की उम्र २२ साल है और वो इंजीनियरिंग के 2nd इयर् में है, और फाइनल ईयर में हु. हम दोनों सेम कॉलेज में पढ़ते है

मेरा कॉलेज में बहुत रसूक है क्युकी मैं मेकानिकल इंजीनियरिंग का स्टूडेंट हु और आप जानते होंगे की हम थोड़ा ज्यादा हरामी होते है क्युकी हमारे पास पढाई के अलावा सारे काम होते है. किसी की कभी हिम्मत नहीं होती थी की कोई मेरी बहन को कॉलेज में कुछ कर पाए या कह पाए.

आस्था बहुत सुन्दर है उसकी चूचिया उसके उम्र के हिसाब से काफी बड़ी है जो किसी बुड्ढे का भी लौड़ा खड़ा कर दे. har College student Astha ki chudai ke sapne dekhta tha आस्था CS ब्रांच में है और उसकी काफी सेक्सी दोस्त है तो मैं अक्सर उसकी क्लास में जाया करता था और मज़े लेता था. काफी लड़किया मुझे भाव देती थी.

आस्था का फिगर साइज करीब 34C 26 36D होगा. वो मेरे बुलेट पे पीछे बैठके जाती थी और अक्सर उसकी चूचिया मेरे पीठ से चिपकी रहती थी और दबा करती थी लेकिन मैंने कभी ये सब ध्यान नहीं दिया क्युकी आस्था मेरी छोटी बहन थी.

Antra ki Chudai

एक दिन एक हादसा हुआ मेरे साथ, मेरे बहन का मोबाइल टेबल पे रखा था और वो वाशरूम में थी मैंने सोचा उसके मोबाइल से उसकी फ्रेंड आयुषी का नंबर लेलु और कोसिस करता हु की अगर आयुषी पट जाये तो उसको चोद के अपनी क्लास का हीरो बन जाऊ क्युकी क्लास के कई लड़के आयुषी को पटाने के चक्कर में थे लेकिन आयुषी किसी को भी भाव नहीं देती थी.

मैंने आस्था का फ़ोन उठाया और चेक करने लगा अचानक एक मसाज पॉप उप हुआ, मैंने मैसेज खोला तो रीना नाम से किसी लड़की ने मैसेज किया था की आस्था कहा हो बेबी मेरा लौड़ा टाइट हो रहा है इसे मुँह में लेके हल्का करदो मेरी जान।

मैं बहुत ज्यादा सरप्राइज हो गया, फिर मैंने पूरा मैसेज पढ़ा तो देखा की वो रणविजय सिंह का नंबर है, रनविजय मेरी ही क्लास का लड़का है, मेरा दोस्त नहीं है लेकिन  अच्छी जान पहचान है है.

ये सब देखके मेरा खून खौल गया. मैंने और मैसेज देखा तो मेरे पैरो के सामने से जमीन खिसक गयी, आस्था ने अपनी नंगी फोटो भी उसे भेज राखी थी.

वो भी एक दो नहीं बल्कि २० २५. मुझे समझ नहीं आ रहा था क्या करू. वो मेरे क्लास का था अगर उसने किसी को बता दिया तो क्या इज्जत रह जाएगी मेरी।

ये सोचके मेरा और खून खौल गया. मैंने सारी  फोटो और चैट अपने मोबाइल पे ट्रांफर कर लिया।

मैंने आस्था से बात करनी बंद कर दी, वो पूछने लगी भैया क्या हो गया मैंने कहा कुछ नहीं। मैं सही वक़्त का इंतज़ार कर रहा था. वो सही वक़्त आया पापा और बड़े भैया ऑफिस में थे, और मम्मी पड़ोस वाली आंटी के यहाँ पूजा करने गयी थी.

मैंने आस्था को बुलाया और बोलै आस्था आ तुझे कुछ दिखता हु, उसने कहा क्या है भैया.

मैं: ये देख किसी लड़की की फोटो आयी है मेरे पास तुम्हारे जैसी लग रही है, जानती हो क्या इसे. आस्था उसे देखके चौक गयी उसकी आँखों में काफी डर था.

आस्था: भैया आपको ये कहा से मिली, प्लीज इसे डिलीट करदो कही माँ पापा ने देख लिया तो अनर्थ हो जायेगा। मेरी ज़िंदगी की आखिरी गलती समझ के अपनी छोटी बहन को माफ़ करदो।

मैं: कैसे माफ़ कर दू रे तुझे, कितना प्यार दिया तुझे मैंने और ये घटिया काम करते हुए तुझे शर्म ना आयी, वो भी मेरी क्लास के लड़के से, अरे कुछ तो सोचा होता मेरे बारे में, माँ पापा के इज्जत के बारे में. तेरी जवानी को इतना जोश था जो तुझे कुछ न समझ आया. रंडी बन गयी तू साली कुतिया। अरे कमीनी मुझे एक बार बोलती मैं समझता तुझे, ये क्या कर दिया तूने.

आस्था: भैया मैं पागल हो गयी थी उस वक़्त, मुझे कुछ नहीं समझ आया की मैं क्या कर रही हु, वो जैसा बोलता गया मैं करती गयी. उस दिन जब मैंने आपसे कहा था की मैं आयुषी के यहाँ जा रही हु कॉलेज के बाद तो उस दिन मई रणविजय के साथ उसके फ्लैट पे गई थी, उसने वह मेरा फायदा उठाया, मैं बिलकुल कुछ नहीं करना चाह्हती थी, सब उसने जबरदस्ती किया, उसके बाद से मैंने उससे बात करना भी बंद कर दिया है.

उसके आँखों में आँशु मुझसे देखे ना गए मैंने अपनी प्यारी बहन को गले लगा लिया, लेकिन मेरा लौड़ा खड़ा हो गया था जो गले लगते वक़्त बहन की चूत में घुसने की कोसिस कर रहा था.

मैंने कहा बाबू कोई बात नहीं, इस उम्र में गलती हो जाती है ध्यान रहे दोबारा ऐसा न हो, लेकिन मैंने  अब सब तुम्हारा देख लिया है तो अब तुम्हे मुझे कुछ भी छिपाने की जरूरत नहीं है.

आस्था: भैया आप ये क्या कह रहे है, आप मेरे सगे भाई मैं आपको कुछ भी कैसे दिखा सकती हु.

मैं: बेबी, मैं तुम्हे कभी भी गलत नजर से नहीं देखता था लेकिन उस दिन के बाद से तुम मुझे बहन नहीं बस एक सुन्दर शरीर की हसीन लड़की लगने लगी हो, जिस लड़की उम्र के साथ शरीरक़ जरूरत बढ़ गयी है. अगर मैंने तुम्हे वो प्यार नहीं दिया तो तुम उसके लिए बाहर किसी और के पास जाओगी जिससे मेरे परिवार की बेइज्जती होगी।

उसने कहा नहीं भैया मैं ऐसा अब नहीं करूंगी।

आस्था, इस शरीर की जरूरते है, जब सेक्स का नशा चढ़ता है तो किसी को कुछ होश नहीं होता, इतना कहते ही मैंने उसे अपनी तरफ खींच लिया और मैं उसकी गाड़ दबाते हुए किश करने लगा.वो सपोर्ट नहीं दे रही थी, मैंने कहा प्यार से साथ दो वरना पापा के पास जाना पड़ेगा।

वो डर गयी अब वो भी किश करने लगी. मैंने उसकी हाफ पैंट में पीछे से अंदर हाथ डाला उसकी गाड़ दबाता रहा. main aaj astha ki chudai karke hi rahunga soch liya tha.

उसके होठ बहुत मोटे थे और मुझे मोटे होठ चूसना ज्यादा पसंद आता है, मैंने उसके अच्छे से लिप्स खाये, और जीभ भी चूसी।

अब मेरा हाथ उसकी पैंट में आगे से घुसा, और मैंने उसकी चूत को टच किया, उसने मेरा हाथ निकल दिया बाहर,मैंने उसके लिप्स को बहुत तेज़ से चूसा और वापस हाथ अंदर उसकी चूत में डाल दिया, मैंने उसकी चूत को रगड़ा देर तक अब और उसे किश किया।

वो समझ गयी थी की आज वो अपने भाई के हाथो बहुत ढंग से चुदने वाली है.

मैंने उसका टॉप उतर दिया अब मेरी सगी बहन आस्था मेरे सामने ब्रा में थी, मैं ब्रा के ऊपर से उसके बूब्स दबाने लगा और उसके गालो को मुँह में भरके चूसने लगा. उसके बूब्स दबाके मैं अलग दुनिआ में था, काफी मज़ा मिल रहा था मुझे। अब मैंने अपनी सगी बहिन की चूचिया पीना चाहता था, मैंने बहुत प्यार से उसके ब्रा को खोल दिया, उसके दोनों तोते फड़फड़ाते हुए बाहर  आ गए. उसकी चूचिया बहुत सुन्दर और बड़ी थी, मैंने उसके निप्पल्स को मुँह में भर लिया, और चूसने लगा.

आस्था: भैया मैं तो इतनी छोटी हु आप मेरे निप्पल्स ऐसे चूस रहे हो जैसे इनमे दूध आ रहा, लेकिन भैया सच कहु तो बहुत मज़ा आ रहा हु चूचिया चूसने में, इन्हे और चूसो क्या पता आज मेरा बहनचोद भाई अपनी बहन की चूचिया से दूध निकाल ही दे.

इतने कहके आस्था ने अपनी चूचिया मेरे मुँह में भर दिया। मैंने पूरी चूचिया मुँह में लेके चूसने लगा. और दबा दबा के मुँह में भर लिया, साली आज तो दूध नहीं निकल रहा है लेकिन जब तू माँ बनेगी तो अपने भाई को अपना दूध पिलाएगी ना?

आस्था: हां भैया , आज मेरी चूत मेरा दूध सब तुम्हारा है, जब मन हो मेरी टॉप ऊपर करके मेरा दूध वाले बूब्स मुँह में भर लेना और मुझे चोद  लेना.

मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था मुझे अपनी छोटी सगी बहन की चूत चाटनी थी. मैंने आस्था के शॉर्ट्स उतर दिए और उसे टेबल पे बैठा के उसकी दोनों टाँगे लम्बी फैला दी. अब मेरी बहन की चूत  मेरे सामने थी, बहन की चूत  पे कोई बाल नहीं था, उसने लगता है जल्दी ही शेविंग कराई थी. uski shave choot dekh ke lag raha tha ki astha ki chudai jaldi me hi hui hai.

मैंने उसकी चूत में जीभ लगाई और अंदर तक जीभ घुमाने लगा. आस्था की चूत चाटने का सपना सच हो रहा था आज मेरा, मैं कुत्ते की तरह अपनी प्यारी गुड़िया की चूत  चाट रहा था.

आस्था : आह भैया बहुत मज़ा आ रहा ह, और चाटो और चाटो। आज अपनी सगी छोटी बहन को अपनी रंडी बना लो, मेरी चूत तुम्हारी गुलाम रहेगी। और चाटो। मुझे नहीं पता था की मेरा भाई इतना बहनचोद निकलेगा। साले भड़ुए चोद अपनी बहन को आज.

आस्था ने  अपने चूत को मेरे मुँह में घुसेड़ दिया, मैंने उसकी चूत  को मन भर के चूसा और अब अपना लंड बहन के मुँह में घुसेड़ दिया

आस्था: भैया ये ना करो प्लीज मुझे लौड़ा चूसना नहीं पसंद है.

मैंने कहा साली कुतिया अपनी चूत इतनी देर चटवाया अब लौड़ा चूसने में नौटंकी चल चूस. और मुँह जबरदस्ती घुसेड़ दिया। थोड़ी नौटंकी के बाद उसने लौड़ेा चूसना सही से सुरु कर दिया अब पूरा मज़े लेके चूस रही थी.

साली अभी नाटक कर रही थी अब देख कैसे चूस रही है जैसे अमृत हो इसमें, मैं उसका मुँह चोद रहा था, उसके मुँह में बहुत देर तक अंदर बाहर किया अपना लौड़ा, उसकी आंखे बाहर आ रही थी, लेकिन मैं पागल था, मैंने उसके  मुँह को बहुत चोदा।

अब बस मेरे लौड़े को बर्दास्त नहीं हो रहा था, वो मेरी प्यारी गुड़िया की छोटी सी चूत में घुसना चाहता था, मैंने हल्का से लंड डाला आस्था की चूत  में और फिर

धीरे धीरे स्पीड बढ़ाने लगा, भैया थोड़ा धीरे धीरे चोदो दर्द होता है, वैसे भी तुम्हारा लौड़ा घोड़े जैसा है और बच्ची हु अभी, प्यार से चोदो अपनी छोटी सी गुड़िया को.

अब मैंने स्पीड बढ़ाई वो चिल्लाने लगी मैंने उसके मुँह में उसकी चड्ढी डाल दी और अच्छे से चोदा। उस दिन मैंने उसे कई बार चोदा। astha ki chudai jaise mere liye ghar ka khana ho gya hai, kabhi bhi apni bahan ko chod deta hu.

बेबी, मुझे तुम्हारे क्लास की आयुषी बहुत पसंद है, उससे मेरी दोस्ती करा दो.

आस्था: सेल अपनी सगी बहन की चोद के तेरा पेट नहीं भरा , मेरी दोस्त को भी चोदना चाहता है, चल उसे भी चुदवा दूंगी। लेकिन अपनी बहन को चोदना न बंद कर देना वर्ना मैं फिर किसी बाहरी लड़के से चुदुँगी तो न कहना फिर.

 

अक्सर मैं उसे पढ़ने उसके रूम में जाता हु और उसे चोदता हु, कभी भी उसकी चूचिया दबाने लगता हु.

वो किचन में खाना बना रही होती है तो जाता हु उसकी चूचिया दबाता हु और उसकी गाड़ में पीछे से लौड़ा घुसेड़ देता हु. उसका भी जब मन होता है तो मेरा लौड़ा निकल के चूस लेती है, हम मज़े में लाइफ गुज़र रहे है, aur mai aksar astha ki chudai karta rahta hu. उसने कहा है की जल्दी ही आयुषी की चूत  भी मुझे दिलवाएगी।


Spread the love

1 thought on “Chhoti behan astha ki chudai blackmail karke”

  1. Agr kisi ladki ko isi tarah se chut farwani ho toh contact karo 8789569191 pe ur sex ka pura maza lo bihar ke muzaffarpur zila se jo ladki ho ya bihar ke kisi v zila se ho agr real sex ka ya chatting sex ka maza chahti ho toh he message ya call kare ladke phone ya message krke mujhe contact na kare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *