खेल खेल में बहन की चुदाई – work from home me didi ko choda

Ludo ke khel me bahan ki chudai
Spread the love

लूडो के खेल में दीदी को हराया तो बहुत था लेकिन सोचा नहीं था की खेल खेल में बहन की चुदाई करने का मौका भी मिल जायेगा।
कोरोना की वजह से मेरे स्कूल की छुटिया चल रही थी और दीदी के ऑफिस का वर्क फ्रॉम होम था। दीदी मुझसे 4 साल बड़ी है और TCS कंपनी में नौकरी करती है।
काजल दीदी घर से ही ऑफिस का काम करती थी और जब बोर हो जाती थी तो मेरे साथ लूडो खेलने लगती थी, और ज्यादातर टाइम में हारती ही थी।

work from home me bahan ki chudai
दीदी पहले जब घर में थी तो काफी सीढ़ी और शांत सी थी लेकिन जबसे बहार नौकरी करने लगी तब से बहुत चुलबुली और बदमाश हो गयी थी। दीदी का शरीर भी काफी बदल गया था जो बूब्स पहले 30 के रहे होंगे वो अब 34 के हो चुके थे।
अब दीदी अक्सर शॉर्ट्स और टॉप में घूमती रहती थी और घर में ब्रा भी नहीं पहनती थी तो उसके बड़े बड़े बूब्स और निप्पल्स साफ़ साफ़ दीखते थे।
कभी कभी काजल दीदी इतनी हॉट लगने लग जाती थी की मन में आता था की बहन की कोरोना टाइम में चुदाई कर दू। लेकिन माइंड से ये सब गन्दी बाते तुरंत निकल देता था क्युकी काजल दीदी मेरी सगी बहन थी और सगी बहन की चुदाई करना अच्छी बात भी नहीं है।
मैंने कई कहानिया पढ़ी थी जिसमे खेल खेल में बहन की चुदाई कर देते थे उसके भाई, मुझे लगता था की ये सब नकली कहानिया होती है लोगो की।
लेकिन उस दिन जब दीदी मेरे साथ लूडो खेल रही थी तो झुक के बैठी हुई थी , दीदी के बूब्स बहार निकलने को बेताब थे और मेरी नज़र काजल दीदी की चूचियों से हट नहीं रही थी।

lockdown me bahan ki chudai
काजल दीदी – वरुण कहा देख रहे हो हा ? अपनी चल यद् नहीं ह क्या
मैंने झठ से नज़र हटाई और अपनी चल चली , दीदी की पक्की गोट अब मेरे सामने थी और मै उसे काटने जा रहा था।
दीदी – वरुण मत काट न। मेरा प्यारा भाई है न अपनी दीदी को एक चांस भी नई देगा क्या। प्लीज मत काट न
मैं – इतना अच्छा मौका है भला क्यों न काटू ? मेरा क्या फायदा न काटने में
दीदी – अच्छा। बता क्या चाइये तुझे? हमेसा मुझे हारता है लेकिन तेरा मन नहीं मानता न ?
मैं – नाह। मै तो काटूंगा। वरना मेरे लिए कुछ करो तो नहीं काटू?
दीदी – बोल न बाबू क्या करू? तुझे कभी मन किया है क्या। तेरी लिए तो कुछ भी कर दू लेकिन आज हरूंगी नहीं।
मैं – दीदी मेरी कोई gf नहीं। आप वादा करो की रूचि दीदी से मेरी सेटिंग करवाऊंगी ?
दीदी – हाहाहा। पागल लड़के वो तुमसे कितनी बड़ी है पता है तुझे ?
मैं – हां बड़ी तो है लेकिन कितनी हॉट है , उनका फिगर देखो आप कितना सेक्सी है ।
दीदी – अच्छा तेरी दीदी से भी सेक्सी है क्या ?
मैं – आपका मुझे क्या पता ? आप मेरी बहन हो तो आपको कभी देखा नहीं वैसे।
दीदी – हाहाहा। अच्छा। ले फिर आज देख अपनी दीदी को और बता की मै ज्यादा सेक्सी हु या रूचि ? इतना बोलके दीदी ने अपना टॉप उतर दिया। दीदी ने ब्रा नहीं पहना था ऊँगली नंगी चूचिया बड़ी बड़ी मेरे आँखों के सामने थी।
मैं – अरे दीदी। उफ़ ये क्या दिखा दिया अपने। रूचि दीदी तो अपने आस पास भी नहीं है , आप का फिगर तो बहुत सुन्दर है। मेरे मन में बस आ रहा था की अपना लैंड काजल दीदी के मुँह में डाल दू और उनकी चूत पि जाऊ।
मैंने बोल दीदी आप बहुत हॉट हो लेकिन मुझे रूचि दीदी से सेटिंग करवा द।
दीदी – क्यों क्या हुआ , दीदी पसंद नहीं आयी क्या तुझे ?
मैं – दीदी आपके जैसा तो कोई नहीं लेकिन आपको साथ मै वो कुछ तो नहीं कर सकता न जो रूचि दीदी के साथ कर सकता हु ?
दीदी – अच्छा मेरा छोटा भाई इतना बड़ा हो गया की अपने दीदी के सहेली की चुदाई करना चाहता है ? इतना कहके हसने लगी।
मैं – हा दीदी, रूचि दीदी की चुदाई और गाड़ बहुत अच्छे है देखता हु तो मन होता है की चोद डालू
दीदी – अच्छा अपनी बहन को चोदेगा क्या ?
इतना सुनते ही मै पागलो की तरह दीदी के ऊपर कूद गया।
मैंने दीदी के बूब्स को मुँह में भरके चूसना सुरु कर दिया और एक हाथ उनके पैंटी में डालके उनके चूत को सहलाने लगा। दीदी अपने बूब्स को मेरे मुँह में भरने लगी।
दीदी के बूब्स को दबा दबा के मैंने अच्छे से चूसा, फिर मैंने अपने होठ दीदी के होठो पे रख दिया और किश करने लगा। अपनी सगी बहन के साथ किश करने का मज़ा ही अलग होता है।

Ludo ke khel me chudai
नीचे से दीदी ने भी अपना हाथ मेरे लंड पे लगा के उसे सहलाने लगी।
मैंने कहा दीदी अपने भाई का लंड चूसने का मन हो रहा है क्या ?
दीदी – हा रे। मुंबई में तो मैंने बहुत सरे बॉस का लंड चूसा है लेकिन सेज भाई का लौड़ा चूसने और खाने का मज़ा ही अलग आएगा आज।
ये सुनके मैंने अपना लंड दीदी के मुँह में भर दिया और उनके मुँह को चोदने लगा।
दीदी के मुँह में मैंने सारा माल गिरा दिया जिससे दीदी को उलटी भी हो गयी।
दीदी – सेल कुत्ते लूडो के खेल खेल में बहन की चुदाई कर रहा है। तू इसीलिए मेरा साथ खेलता था लूडो की मौका मिल जाये तो अपनी सगी बहन को चोद डाले ?
मैं – दीदी सच बताऊ तो आप जबसे मुंबई से आयी हो तबसे आपको चोदने का मन ह मेरा , आप की गांड में लंड पेलने के लिए मेरा लंड पागल रहता है।
और आपकी चूत में तो ऐसा लंड डालना चाहता हु की आप रो दो।
दीदी – सेल कितना कुत्ता है तू, अपने सगी बड़ी बहन की चुदाई करने के लिए इतना पागल हो रखा है। चल कोई बात नहीं आज तेरा सपना पूरा कर दूंगी। और दीदी ने अपनी टंगे फैला दी।
मैं – कुत्ते की तरह काजल दीदी की चूत को चाटने लगा , मैंने जुबान एक दम अंदर डाल दी और हिलने लगा।
दीदी – सेल तूने कहा से सीखा इतना अच्छा चूत चाटना , चाट और चाट इसे तेरी बहन तेरी gf है अबसे।
मैं – दीदी मैं तुम्हे तो चोदूँगा लेकिन मुझे रूचि और रानी दीदी की भी चूत चाइये और आप दिलवाओगी।
दीदी – हा रे , चोद लेना उन्हें भी , पहले अपनी बहन के चूत का तो आज मज़ा लेले। अच्छा लूडो खेला आज तूने। खेल खेल में बहन की चुदाई कर दी।
लेकिन वादा कर आज तू मुझे हराएगा नहीं। मैंने कहा कभी भी नहीं हराऊंगा।
मैंने दीदी को सीधा किया और अपना लंड दीदी के चूत में डाल दिया।
दीदी – साले कितना बड़ा हो गया है तेरा। आज वर्क फ्रॉम होम में बहन की चुदाई कर तू। अब तो मुझे हमेसा घर से काम करना है।
मैंने अपनी स्पीड बधाई और दीदी को पेलना चालू कर दिया।
दीदी – आह वाह मेरे छोटे भाई , क्या मज़ा दे रहा आज तू अपनी काजल दीदी को। और चोदो और जोर से
आह , फाड़ दे आज अपने सेज बहन की चूत। कर दे खेल खेल में बहन की चुदाई कुतिया banake ,
दीदी की aage peeche से चुदाई puri करने के baad मैंने कहा की chalo दीदी लूडो puri कर दे। मैंने दीदी की पक्की गोट chhod दी।
दीदी की चूत के aage गोट की क्या aukad थी।
is दिन के baad से मैं और दीदी काफी khul gye। दीदी बात करती rhti दीदी client से और मैं peeche khada hoke दीदी की चूचिया दबा रहा होता हु।
कभी दीदी बेड पे लेट के टाइप कर रही होती तो उनके ऊपर लेट के मैं उनके गाड़ में लंड रगड़ने लगता हु। दीदी के वर्क फ्रॉम होम ने मुझे ज़िंदगी का असली मज़ा दे दिया।


Spread the love

3 thoughts on “खेल खेल में बहन की चुदाई – work from home me didi ko choda”

  1. Waah kya mst bahen h teri jisne ek dum se apne bobs dikha diye bhai please mujhe bhi apni didi ki chut ya gand dila de Mai kubse muth maarke kaam chla rha hu please please please please please please bhai dila dw

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *