मोटी बहन की चुदाई वजन घटाने के लिए

motapa kam karne ke liye behan ko choda
Spread the love

मेरी दीदी ज्योति की सबसे अच्छी बात ये ही है की  वो मुझसे कितनी भी चुदाई करवा ले , किसी दूसरे लड़के से बात तक नहीं करती। मैं दीदी की चुदाई कम से कम हफ्ते में 5 से 6 बार जरूर करता हु , सैटरडे और संडे को 2 3 बार अपने बहन को चोदता हु ,

Jyoti didi ki chudai

लास्ट 1 साल से तो मै अपनी छोटी बहन एकता था की भी चुदाई करने लगा हु। कई बार मै ज्योति दीदी और एकता को साथ में चोदता हु।

अब मेरी बहने मेरी रंडी बंद चुकी है , जब मन होता है उनकी चूचियों को मसलने लगता हु तो कभी उनके पैंटी में हाथ डाल देता हु और कभी जब मन होता है उन्हें दीवार पे सटा के उसके गाड़ में स्कर्ट या सलवार के ऊपर से लौड़ा रगड़ता हु ।

मेरा दीदी के साथ ये मस्ती पिछले लास्ट 3 साल से चल रही है , उसके पहले तो वो और मैं एक संस्कारी भाई बहन जैसे थे। दीदी की चुदाई मेरे सपने में भी नहीं आ सकती थी , बहुत इज्जत करता था मै दीदी की।

लेकिन जैसा जैसा मै बड़ा होने लगा , मेरे लौड़े में उत्तेजना बढ़ने लगी और मै गन्दी कहानिया बढ़ने के चक्कर में आने लगा।

खुद को कई बार समझता की ये भाई बहन चुदाई की कहानी नहीं पढ़ना है , लेकिन मेरा मन नहीं मानता और मै जैसे खली वक़्त पता तो बहन ने बहन को चोदा जैसी कहानिया पढ़ने लगता।

अब जब भी मै कहानी पढता तो मेरे मन में ज्योति दीदी का चेहरा आता , ज्योति दीदी काफी मोटी , मोटी बहन की चुदाई करने का मज़ा सबसे अलग है

उन्हें अपना भार अच्छा नहीं लगता और उसे काम करने की कोसिस करती रहती है।

मै जब भी स्टोरी पढता तो ये सोचता की दीदी के ऊपर चढ़के चुदाई करूँगा तो कितना गद्दा जैसा फील आएगा। दीदी का दूध पियूँगा तो कितना आनंद आएगा।  ये सब सोचते हुए मै डेली मुठ मारता।

मुठ मारने के बाद मुझे खुदके के लिए बहुत गलत फील आता की मै कितना घटिया इंसान हु , अपनी बहन को हेल्प करने के बजाये मोटी बहन की चुदाई जैसी बाते सोचता हु।

Didi ki chudai

लेकिन साडी ग्लानि वापस चली जाती है जब कहानी पढता था , मुझे कहानी पढ़के बहुत मज़े आने लगे।  और मै सोचने लगा की कई सरे लोग दीदी की चुदाई जैसी कहानिया लिखते है और अपनी बहन को चोदते है तो क्या मै कुछ ऐसी तरकीब लगाके दीदी की चुदाई नहीं कर सकता क्या।

तभी मुझे एक बहुत अच्छा ख्याल आया। मै सोचने लगा की ये तरीका काफी सेफ हो सकता है।  इस तरिके से दीदी खुद अपने चूत मुझे दे देंगी और गाड़ उठा उठा के मुझसे चुदवायेगी

दीदी एक दिन सुबह एक्सरसाइज कर रही थी , मुझसे पूछने लगी की रवि मेरा वजन कुछ काम हो रहा है न।

मैंने कहा दीदी सच्च बोलू तो अभी भी कुछ फर्क नहीं है , दीदी दुखी हो गयी और कहने लगी की कुछ दिनों में मेरे लिए शादी के रिश्ते आने लगेंगे और अगर मेरा वजन काम नहीं हुआ तो कौन मुझसे शादी करेगा।

मैंने कहा दीदी आप इतना मत सोचो सब ठीक हो जायेगा , मेरा जो दोस्त रणजीत है न उसकी दीदी भी तो मोटी थी , अब देखो कितना सेक्सी फिगर हो गया है।

दीदी बोली तो तुम नहीं चाहते क्या की तुम्हारे ज्योति दीदी का फिगर सेक्सी हो जाये , और ये कहके दीदी हसने लगी।

मैंने कहा की मुझे भी अपने प्यारी दीदी की फ़िक्र है , मै रणजीत की बहन से बात करूँगा और पूछता हु कैसे उसकी बहन इतनी पतली हो गयी है।

2 दिन बीत गए दीदी ने मुझसे पूछा की तुमने रणजीत से बात की , मैंने बोलै की दीदी अभी वक़्त नहीं मिला।  दीदी काफी आशा में थी ।  उन्हें लग रहा था की शायद ये ही एक तरीका है उनके पतले होने का।

Didi ki chudai

दीदी ने फिर से कहा की तुम बात नहीं कर रहे हो न रणजीत से , चाहते ही नहीं हो की पतली हो जाऊ। और दुखी सा चेहरा बना लिया।

मैंने कहा दीदी मै सच्च कहु तो मेरी बात हुई है रणजीत से , लेकिन उसकी बहन ने जिस तरह से अपना वजन काम किया है मै बता भी नहीं सकता मुँह से।

दीदी बोली की ऐसा क्या किया है उसने, कुछ उलटी सीढ़ी चीजे खाके वजन काम किया है क्या ?

मैंने कहा की वो सब छोडो दीदी , आप एक्सरसाइज करते रहो धीरे धीरे वजन जरूर कम हो जायेगा।  दीदी  ने कहा की रवि तुम जानते हो न मै कितने साला से इतनी मेहनत कर रही लेकिन वजन काम नहीं हुआ बल्कि बढ़ ही गया है।

पतली होने के लिए मै कुछ भी करुँगी , क्युकी लड़की की असली खूबसूरती तभी होती है जब उसका फिगर अच्छा होता है।

मैंने कहा की दीदी मै समझ रहा हु लेकिन ये बहुत मुश्किल काम ह। दीदी ने कहा की तुम बताओ तो।

मैंने कहा दीदी रणजीत की बहन रूबी अपने बॉयफ्रेंड के साथ कई बार सेक्स करती थी , जिससे काफी मेहनत हो जाता था और थोड़ा दर्द भी होता था इस तरह उसका वजन काम हो गया।

विदेशो में भी लड़किया ऐसा करती है इसलिए अपने देखा होगा की वो सब काफी स्लिम रहती है।

ज्योति दीदी – यार ये तो बहुत गलत बात है वजन कम करने के लिए इतना गन्दा काम करो , किसी को पता चल जाये तो पापा की कितनी बदनामी हो जाएगी , कोई शादी भी नहीं करेगा मुझसे।

मै – दीदी सही बात है , वजन कम करने के लिए चुदाई कराना तो बहुत गन्दी चीज है।

दीदी – यार लेकिन मै इतनी मोटी हु वो भी तो अच्छी नहीं लगती है , और मेरा कोई बॉयफ्रेंड भी तो नहीं है न ही ये सब करके पापा की बेइज्जती करनी है।

में – हां दीदी।  ये सब फालतू के काम रहने दो।  आप थोड़ा और मेहनत करो मोटापा कम हो जायेगा।

Moti didi ki chudai

दीदी – नहीं यार , इससे नहीं होगा। एक बात बोलू तुमसे अगर बुरा न मानो तो।

में – हां दीदी बोलो न , बुरा को मानना, छोटा भाई हु आपका मै।

दीदी – रवि तुम मेरी हेल्प कर सकते हो क्या कुछ , बॉयफ्रेंड बन जाओ।  जिससे घर की बेइज्जती भी नहीं होगी और तुम्हारी दीदी का वजन भी काम हो जायेगा।

मैं – अरे दीदी।  ये कह रही हो आप।  मेरी सगी बड़ी बहन हो आप , आप को छू भी नहीं सकता मै , सेक्स करना तो बहुत दूर की बात है।

दीदी रोने लगी और बोली की तुम शायद अपने बड़ी बहिन से प्यार ही नहीं करते।  वरना अपनी दीदी को चोदने से पीछे नहीं हटते , या फिर शायद मै तुम्हे अच्छी नहीं लगती क्युकी मै मोटी हु।

में – दीदी ऐसी बात नहीं है।  और मैंने दीदी को गले से लगा लिया। दीदी के 42 साइज के बूब्स मेरे सीने में घुसे जा रह थे।

मैंने दीदी को गाल पे किश करते हुए कहा की मै वो सब करूंगा जो मेरी दीदी के लिए अच्छा होगा।

दीदी ने लिप्स पे किश कर लिया , मै ज्योति दीदी के होठो को चूसने लगा।  उसके गुलाबी उठो को चूसा के मैंने साडी लिपिस्टिक खा ली ,

में दोनों हाथो से दीदी के गाड़ को दबा रहा था , और अपने तरफ धक्का दे रहा था।

दीदी अपना हाथ मेरे लौड़े पे ले गयी और लंड पकड़ने लगी , मेरे लंड खड़ा और बेताब था।

मैंने दीदी को धक्का देके बेड पे गिरा दिया , और उनके ऊपर चढ़ गया , उनके टॉप को उतर के अलग किया और ब्रा के ऊपर से बूब्स को चाटने लगा।

दीदी – अभी तक तो कितना मन कर रहा था , अब देखो कैसे टूट पड़ा जैसे किसी लड़की के साथ सेक्स नहीं किया है।

में- दीदी मै उन कुछ किस्मत वाले भाइयो में से हु जिन्होंने लाइफ का पहला सेक्स वो भी अपने बहन के साथ करने जा रहा , मैंने दीदी की ब्रा निकली , बोली धीरे धीरे बाबू।

मै उनके निप्पल्स को मुँह में भार के चूसने लगा।  इतने बड़े बूब्स थे दीदी के मुँह में आ नहीं रहे थे पूरे। मैंने दीदी से कहा की दीदी दूध पीला दो।

दीदी – पागल अभी तेरे बहन की चूचियों में दूध नई आते।  दूध आने दे सबसे पहले तुझे पिलाऊंगी। और अपने बूब्स मेरे मुँह में ठूस  दिय।

मैंने बूब्स को मसल मसल के चूसे रहा था , बहुत मज़ा आ रहा था , मोटी बहन की चुदाई काफी अलग होती है।

मोटी बहन का शरीर गद्दे का मज़ा देता है पूरा।

मैंने बूब्स पी रहा था और एक हाथ दीदी के स्कर्ट में डाल दिया , और ज्योति दीदी की चूत को सहलाने लगा। दीदी की चूचिया छोड़ने का मेरा मन नहीं हो रहा था, मन हो रहा था की बहन का दूध पीटा रहु ।

 

मैंने दीदी के चूत में ऊँगली डाल दी।  दीदी के  मुँह से आवाज़ आयी।  आह रवि।  मज़ा आया।

मै नीचे गया और दीदी की टाँगे फैला दी। मेरी सगी बहन ज्योति की चूत मेरे सामने थी। मुझे विश्वास नहीं ही रहा था की अपने मोटी बहन की चुदाई करने जा रहा हु।

मैंने अपना जीभ दीदी के बुर में डाला।  दीदी हिल गयी।  उन्हें काफी मज़े का एहसास हुआ।

उन्होंने ने मेरा सर अपनी चूत में घुसेड़ लिया और बोली चाटो इन्हे रवि।

अपने सगी बहन की चुदाई करके खुश हो जाओ तुम।

में दीदी की चूत को मस्त होक चाट रहा था।

दीदी – रवि बस अब बर्दास्त नहीं होता , चोद दो अपनी बहन को आज।  डाल दो अपना लंड अपने सगी दीदी की चूत में।

में – अभी नहीं।  पहले मेरा लौड़ा चूसो।

दीदी – नहीं रवि ये अच्छा नहीं लगता।

मै – दीदी चूसना तो पड़ेगा अपने छोटा का भाई लंड।  अपनी चूत तो मेरे मुँह में भर भर के चुसाया है।

दीदी – बहुत कुत्ते हो तुम सच मे।  और फिर दीदी ने मुँह बनाते हुए लौड़े को मुँह से टेस्ट किया और बोली की गन्दा टेस्ट है।

मैंने लंड दीदी के मुँह में पैल दिया।

अब कुछ बोलो न बस चूसो अपने भाई का लंड।  दीदी ने मेरा लंड काफी देर चूसा।  अब बोली की प्लीज चोद दो अपनी सगी बहन को, अब बर्दास्त नहीं होता है मुझसे।

मैंने दीदी की टंगे फैला के लौड़ा अंदर डाल दिया, दीदी बहुत तेज़ चिल्लाई।  और फिर धीरे धीरे चुदाई का मज़ा लेने लगी।

दीदी ने मुझसे कहा की रवि मै पतली हो जाउंगी न।  मैंने कहा दीदी पक्का।

मोटी बहन की चुदाई वजन कम करने के लिए ही कर रहा हु।  मैंने दीदी को फिर उल्टा लेता दिया।

किसी मोटी लड़की को चोदने का सबसे ज्यादा मज़ा उल्टा करके आता है। मैंने ज्योति दीदी को उल्टा लेता के ऊपर चढ़ गया और दीदी की गाड़ में लंड डाल दिया। काफी देर चोदने के बाद मैंने वापस से बूब्स पीना सुरु कर दिया।

बहिन की चुदाई के बाद मैंने पूछा दीदी कैसा महसूस हो रहा।

दीदी – यार बहुत अच्छा लग रहा है और गर्मी भी लग रही।  इससे वजन जरूर काम हो जायेगा।

अब मुझसे दीदी को चोदने का अच्छा बहाना मिल गया , जब मन हो दीदी को चोदने लग गया।  कभी किचन में बहन की चुदाई तो कभी मार्किट के वाशरूम में दीदी को चोदा।

एक बार तो हम मौसी की बेटी की शादी में गया था , तो दीदी की चुदाई मौसी के घर भी किया ,

बहन को चोद चोद के अब मै काफी बोर भी हो गया था।  अब मेरा एकता को चोदने का होने लगा।

दीदी बोली तुम इतना गिर जाओगे सोचा भी नहीं था।  एकता तो कितनी छोटी है।  उसके बारे में भी तुम इतना गन्दा सोच रहे।  मैंने बोलै दीदी अब मुझे चूत के अलावा कुछ नहीं दिख रहा।

एकता अब जवान हो गयी है उसको चोदने का वक़्त आ गया है , वैसे ही मैंने नहीं चोदा तो कोई तो चोद देगा ही।

दीदी – नहीं।  ये नहीं होगा।  मुझे जितना जब चोदना हो चोद लो लेकिन एकता की चुदाई नहीं करने दूंगी।

में- ठीक है।  आज से आपकी भी चुदाई भी बंद।

दीदी – ऐसा मत बोलो।  मुझे पतला होना है। ठीक ह कुत्ते मै चुदवा दूंगी एकता को भी।

दीदी ने बहला फुसला के एक रात मेरे रूम में लायी।  हम सब साथ सो रहे थे।  मै दीदी की चुदाई करने लगा छोटी बहन के सामने

एकता जग गयी। और बड़ी बहन को चुद ते हुए देख रही थी।

दीदी ने कहा एकता इधर आओ , ये रवि बहुत अच्छा चोदता है।  लंड पकड़ो इसका।

एकता ने थोड़ा न नुकुर किया।  और फिर मेरा लंड पकड़ लिया। मैंने एकता को पकड़ा और दीवार पे सटा के उसके बूब्स दबाने लगा।

उस रात भर मैंने एकता को चोदा।  उसे बहुत दर्द हो रहा था।  रो भी रही थी

उस दिन के बाद से एकता को भी अक्सर ही चोदता रहता हु। मै नहीं चाहता की उन दोनों की शादी हो। पूरी ज़िंदगी अपने बहनो की चुदाई करते रहु ब।

 

दोस्तों आप बताओ क्या अपने भी कभी अपने सगी बहन की चुदाई के बारे में सोचा है ?


Spread the love

1 thought on “मोटी बहन की चुदाई वजन घटाने के लिए”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *